एकता में बल है। पढ़े मजेदार कहानी

दोस्तों आप सभी का मेरे आर्टिकल पर स्वागत है। दोस्तों आज मैं आप सभी को एक बहुत ही मजेदार कहानी बताने वाला हूँ। दोस्तों आज की कहानी जंगल के बारे है। एक जंगल में सभी तरह के जानवर रहते है और बहुत खूंखार भी होते है फिर भी एकता होती है जानवरो में। दोस्तों आज की कहानी से आप जान सकते हो की एकता में बल है। एकता हर जगह होनी चाहिए पर हम इंसानो में एकता ख़त्म होते जा रही है। लोग आपस में ही लड़ते रहते है। पडोसी अपने पडोसी से नाखुश है , भाई भाई में तकरार है। दोस्तों ज्यादा समय लेते हुए कहानी शुरू करते है । दोस्तों बहुत सालो पहले की बात है। किसी जंगल में बहुत तरह के जानवर रहा करते थे। उस जंगल में बड़े बड़े जानवर जैसे शेर ,हाथी ,बाघ ,गैंडा, जिराफ आदि रहा करते थे। उस जंगल का राजा शेर था जिसका नाम जगनराज था । सभी जानवर उस शेर से डरते थे। उस शेर का उस जंगल में काफी खौफ था। एक बार उस जंगल में किसी बात में एक सभा बुलाई गयी । उस सभा में यह बात आई की कुछ बड़े जानवर छोटे जानवरो को चैन से रहने नहीं दे रहे। जंगल का राजा जगनराज बहुत दुखी हुआ। सभा में यह बात राजा ने बोल दिया की कोई बड़ा जानवर अपने से छोटे जानवरो को परेशान नहीं करेगा। सभी ने यह बात मान लिया।

एक दिन जंगल के सभी चींटी अपने खाने के लिए बड़ी दूर से अपना भोजन ला रही थी। जंगल के किसी रस्ते पर हाथियों का एक झुण्ड आ रही थी। यह देख कर चींटियों की रानी ने किसी सुरक्षित जगह पर छिपने का फैसला किया। फिर भी एक हाथी उसी तरफ जा रहा था जहा चींटिया छिपी थी। हाथी के मोटे और बड़े पैर से दबकर काफी चींटिया गंभीर हो गयी और कई चींटिया मर गई। इस बात से चींटियों की रानी बहुत दुखी हुई और जंगल का राजा शेर से हाथी की शिकायत करने गयी। शेर भी हाथियों के झुण्ड से थोड़ा डरता था जिस वजह से उसने बात को टालते हुए कहा आगे से ऐसा नहीं होगा। पर चींटियों की रानी बदला चाहती थी। उसने यह योजना बनायीं की सभी चींटिया एक साथ उस हाथी के मुँह और कान और नाक में घुस जायेंगे।अगले दिन ठीक ऐसा ही हुआ जैसा योजना बनी थी। अब हाथी बहुत परेशां था। वह साँस भी नहीं ले पा रहा था। इस तरह उस हाथी ने उन छोटे चींटियों से माफ़ी मांगी। उसके बाद उस जंगल में सभी अच्छे से रहने लगे।

इसीलिए दोस्तों आपस में प्यार होना बहुत जरूरी है । क्यूंकी प्यार होगा तब ही एकता होगा और एकता में बल है।

Enjoyed this article? Stay informed by joining our newsletter!

Comments
Tanveer Ansari - Sep 15, 2020, 2:46 AM - Add Reply

Hi

You must be logged in to post a comment.

You must be logged in to post a comment.

About Author