जंगल का राजा शेर और खरगोश

दोस्तो आज एक बहुत ही मजेदार और प्रेरणादायक कहानी बताने वाला हूं।  एक बार एक जंगल में बहुत सारे जानवर जैसे हिरण , हाथी , खरगोश , भालू रहते थे। इनमे आपस में बहुत गहरी दोस्ती थी। ये सभी अपना ज्यादा समय एक दूसरे के साथ ही बिताते थे। इनके अलावा भी उस जंगल में बहुत से और जानवर रहते थे। वहां उस जंगल में एक खूंखार शेर भी रहता था। जंगल के सभी जानवर उस शेर से बहुत डरते थे क्योंकि अगर उस शेर के सामने कोई गलती से भी चला जाता था तो वह शेर उसे अपना भोजन बना लेता था।

उस जंगल भी किसी भी जानवर के पास इतनी शक्ति नहीं थी कि उस शेर का सामना कर सके। इसलिए सभी जानवर हमेशा उस शेर की नज़रों से बचने में लगा रहता था। एक बार उस जंगल में कुछ शिकारी आते है ।वे शिकारी हिरण का शिकार करना चाहते थे। जब वे शिकारी अपनी और उस हिरण को आते हुए देखते है तब वे उसे देखकर तुरंत एक पेड़ में चढ़ जाते है ताकि जब वह हिरण उनके सामने आए तब वे उस पर जाल फेक सके और उसका शिकार आसानी से कर ले। जब वह हिरण पेड़ के सामने पहुंचने ही वाला होता है तभी अचानक वहां पर वह खूंखार शेर आ जाता है। शेर से जान बचाने के लिए हिरण दूसरी ओर भाग जाता है और शिकारी शेर के उपर जाल फेक देते है। उन्हें लगता है कि उन्होंने हिरण पर जाल फेका है परन्तु जब वे पेड़ से नीचे उतरकर देखते है तो उन्हें पता चलता है कि उन्होंने हिरण की जगह एक शेर के उपर जाल फेक दिया है।

 

वे लोग उस शेर को देखकर तुरंत उस जंगल से भाग जाते हैं। कुछ देर बाद वह हिरण फिर से उसी जगह घूमने के लिए आता है तभी उसकी नजर उस शेर पर पड़ती है। वह शेर हिरण से बोलता है कि मुझे यहां से बाहर निकालो पर उस हिरण को डर था कि कहीं वह उस शेर को बाहर निकलेगा तो वह शेर उसे ही अपना भोजन ना बना ले। हिरण थोड़ा दयालु था । शेर उस हिरण को बहुत मासूमियत से देख रहा था हिरण को उसकी मासूमियत पर दया आ जाती है और उसे वह उस जाल से छुड़ाने के लिए तैयार हो जाता है। पर हिरण उस शेर को वादा करने बोलता है कि जाल से छूटने के बाद वह उसे अपना भोजन नहीं बनाएगा।

 

शेर वादा करता है कि वह हिरण को कुछ नहीं करेगा। जब हिरण उस शेर को जाल से आजाद करता है उसके बाद उस शेर की नियत खराब हो जाती है और वह हिरण को खाने खा सोचता है। हिरण समझ जाता है कि शेर उसे अपना भोजन बनाना चाहता है इसलिए अपनी जान बचाने के लिए वह भागना शुरू कर देता है। परंतु शेर उस हिरण को पकड़ लेता है और उसे खाने ही वाला होता है तभी वहां पर खरगोश आ जाता है और उस शेर से बोलता है कि इस जंगल में एक ओर शेर आ गया जो हम सभी को अपना भोजन बनाना चाहता है परन्तु हम उसका नहीं बल्कि आपका भोजन बनना चाहते हैं यदि आप उस शेर को हरा देते है तो आप हम सभी को आपना भोजन बना लेना। वह शेर दूसरे शेर से लडाई करने के लिए तैयर हो जाता है और खरगोश को बोलता है कि मुझे उस शेर के पास ले चलो । खरगोश उसे एक कुएं के पास ले जाता है और शेर से बोलता है कि वह यहां इसके अंदर रहता है।

 

शेर उससे लड़ने के लिए उस कुएं में कूद जाता है जिससे उसकी मृत्यु हो जाती है । इस प्रकार खरगोश अपना हिरण का और जंगल के बाकी जानवरों को बी उस शेर से छुटकारा दिलाता है और जंगल के सभी जानवर शेर की मृत्यु से बहुत खुश हो जाते है और वे सभी उस दिन बहुत मस्ती करते है।

Enjoyed this article? Stay informed by joining our newsletter!

Comments
Tanveer Ansari - Sep 24, 2020, 11:14 AM - Add Reply

Nice

You must be logged in to post a comment.

You must be logged in to post a comment.

About Author