Mother

लगती दुनिया सुनी सुनी 

जब तुमसे मा जुदा हुआ

रूट गया हूं तुमसे मा 

मुझको तू माना ले ना

दिन दिन भर और रतो रतो

मुझे याद तेरी सताती हैं

निंदिया रानी अकाकर मुझको 

सपने तेरे दिखती है

 सो तो जाता हूं मा  

 बस याद तेरी बहुत आती हैं

मंज़िल पाने के लिए 

मा तूने मुझको जुदा किया

लगता है जैसे शीश ने 

अपने धर को कहीं  पर छोड़ छोड़ दिया

क्या बात करू उस जन्नत की

 जो तेरे गोद  में  पाया था 

रोते रोते तूने ही मा

मुझको हस्ना सिखाया था

                        धन्यवाद

Enjoyed this article? Stay informed by joining our newsletter!

Comments
Ashutosh - Aug 13, 2020, 4:51 PM - Add Reply

Nice

You must be logged in to post a comment.
Ashutosh - Aug 14, 2020, 8:28 AM - Add Reply

Nice

You must be logged in to post a comment.
Ashutosh - Aug 14, 2020, 8:29 AM - Add Reply

🤗🤗🤗🤗

You must be logged in to post a comment.

You must be logged in to post a comment.

About Author